West Bengal Election: कांग्रेस का बड़ा ऐलान, पश्चिम बंगाल में कांग्रेस 92 सीटों पर लड़ेगी चुनाव

West Bengal Election: पश्चिम बंगाल (West Bengal) विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान होते ही राजनीती की सरगर्मियां तेज हो गई हैं।

West Bengal Election: कांग्रेस का बड़ा ऐलान, पश्चिम बंगाल में कांग्रेस 92 सीटों पर लड़ेगी चुनाव
West Bengal Election: कांग्रेस का बड़ा ऐलान, पश्चिम बंगाल में कांग्रेस 92 सीटों पर लड़ेगी चुनाव

West Bengal Election: पश्चिम बंगाल (West Bengal) विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान होते ही राजनीती की सरगर्मियां तेज हो गई हैं। कांग्रेस ने सोमवार को ऐलान किया कि वह पश्चिम बंगाल (West Bengal) विधानसभा चुनाव में 92 सीटों पर अपने प्रत्याशी खड़े करेगी। और 92 सीटों पर चुनाव लड़ेगी इसके साथ ही कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी (Adhir Ranjan Chaudhary) ने सोमवार को घोषणा करते हुए कहा कि, ‘अब तक वाम दलों के साथ हुई चर्चा के अनुसार, आगामी पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए कांग्रेस के लिए 92 सीटों को अंतिम रूप दिया गया है। इन सीटों के उम्मीदवारों की सूची दो दिनों में घोषित की जाएगी।’ इसके साथ ही हम आपको बता दें कि पश्चिम बंगाल में विधानसभा की 294 सीटें पर चुनाव होना है इन सीटों पर 27 मार्च से आठ चरणों में मतदान होगा।

कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी (Congress leader Adhir Ranjan Chaudhary) ने कहा कि, ‘हमने शुरुआत में 130 सीटों की मांग की थी, लेफ्ट फ्रंट ने हमें अधिक सीटों के साथ समायोजित किया होगा, लेकिन हमें अन्य दलों जैसे राजद और राकांपा के लिए अंतर रखना होगा। अब हमें राजद और राकांपा के साथ सीटें साझा करने की आवश्यकता नहीं है, लेकिन हमारा प्रस्ताव दूसरों के लिए खुला है।’ अधीर रंजन चौधरी ने रविवार को दावा किया था कि वाम-कांग्रेस और अन्य धर्मनिरपेक्ष ताकतों का महागठबंधन पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस और भाजपा दोनों को हराएगा।

इसके साथ ही, वाम मोर्चा के अध्यक्ष बिमान बोस (Biman Bose) ने कहा, ‘कांग्रेस के साथ आज की चर्चा के बाद, हमने महसूस किया कि अब कोई समस्या नहीं होगी। हम गठबंधन के साथ आगे बढ़ना चाहते हैं।’ वही कोलकाता के ब्रिगेड परेड ग्राउंड में आयोजित कांग्रेस-वाम दलों की संयुक्त रैली को संबोधित करते हुए चौधरी ने कहा कि, ‘भाजपा और सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस चाहती हैं कि इन दोनों दलों के अलावा राज्य में कोई अन्य राजनीतिक ताकत मौजूद न हो, जो उनके रास्ते में आए। भविष्य में भाजपा या तृणमूल कांग्रेस कोई नहीं होगा, केवल महागठबंधन रहेगा।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here