उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत हुए ‘कोरोना पॉजिटिव’, अभी हरिद्वार कुंभ में संतो संग किया था पूजा-पाठ

देवभूमि उत्तराखंड के नवनिर्वाचित सीएम तीरथ रावत अपनी तीखी बयानबाजी के चलते विवादों में घिरे होने के बीच अब कोरोना का शिकार हो चुके है।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत हुए 'कोरोना पॉजिटिव', अभी हरिद्वार कुंभ में संतो संग किया था पूजा-पाठ
उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत हुए 'कोरोना पॉजिटिव', अभी हरिद्वार कुंभ में संतो संग किया था पूजा-पाठ

(श्रद्धा उपाध्याय): देवभूमि उत्तराखंड के नवनिर्वाचित सीएम तीरथ रावत अपनी तीखी बयानबाजी के चलते विवादों में घिरे होने के बीच अब कोरोना का शिकार हो चुके है। मुख्यमंत्री ने खुद अपनी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने की जानकारी सोशल मीडिया के जरिये दी। उन्होंने सभी को सुरक्षित रहने की भी सलाह दी। वही अभी हाल ही में तीरथ रावत ने हरिद्वार कुंभ में अनेको साधु-संतो संग पूजा-पाठ किया था। साथ ही उन्होंने वहां कोरोना रिपोर्ट की जरूरत को भी खत्म कर दिया था। वही उनकी आगामी 25 मार्च को पीएम नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के साथ मीटिंग होने वाली थी, और उससे पहले वो कोरोना की चपेट में आ गए।

दरअसल, आज यानि सोमवार को मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने अपने ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट के जरिये ट्वीट कर अपने कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी दी। उन्होंने आज अपने ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट लिखा – ‘मेरी कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। मैं ठीक हूँ और मुझे कोई परेशानी नहीं है । डॉक्टर्स की निगरानी में मैंने स्वयं को आइसोलेट कर लिया है ।आप में से जो भी लोग गत कुछ दिनों में मेरे निकट संपर्क में आयें हैं, कृपया सावधानी बरतें और अपनी जाँच करवाएं।’

वही उन्होंने अपने दूसरे ट्वीट में लिखा – ‘मैं सभी के कुशल स्वास्थ्य की कामना करता हूं।’

आपको बता दें अभी हाल ही में तीरथ रावत ने मुख्यमंत्री का कार्यभार संभाला है। जिसके बाद उन्होंने कुछ दिन पहले महिलाओं के फटी जींस पर बयानबाजी की थी जिसके चलते उन्हें कई लोगो की आलोचनाओं का शिकार होना पड़ा था। वही रविवार को एक संबोधन में अमेरिका और भारत के बीच बयानबाजी पर फिर एक बार चर्चाओं में आ गए है। उन्होंने अपने बयान में कहा – अमेरिका ने भारत को 200 साल तक गुलाम बनाये रखा था। और दुनिया पर राज किया। और आज भी इस पर संघर्ष कर रहा है।

वही इससे पहले उन्होंने राशन पर भी बयान दिया था। उन्होंने लिखा -कोरोना के समय मिलने वाले राशन पर उनका कहना था -‘जिनके 10 थे उनको 50 किलो, 20 थे तो क्विंटल भर राशन दिया गया। फिर भी जलन होने लगी कि 2 वालों को 10 किलो और 20 वालों को क्विंटल भर मिला। इसमें जलन कैसी? जब समय था तो आपने 2 ही पैदा किए 20 क्यों नहीं पैदा किए।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here