महाराष्ट्र में कोरोना के कहर को थामने के लिए, पुणे में स्‍कूल-कॉलेज 28 फरवरी तक बंद, नाइट कर्फ्यू का ऐलान

महाराष्ट्र में एकबार फिर तेजी से कोरोना वायरस के मामले बढ़ते जा रहे हैं। लगातार दूसरे दिन महाराष्ट्र में कोरोना के 6000 से अधिक नए केस सामने आए है।

महाराष्ट्र में कोरोना के कहर को थामने के लिए, पुणे में स्‍कूल-कॉलेज 28 फरवरी तक बंद, नाइट कर्फ्यू का ऐलान

Coronavirus: महाराष्ट्र में एकबार फिर तेजी से कोरोना वायरस के मामले बढ़ते जा रहे हैं। लगातार दूसरे दिन महाराष्ट्र में कोरोना के 6000 से अधिक नए केस सामने आए है। कोरोना वायरस के मद्देनजर और कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए पुणे में स्कूल-कॉलेज को बंद कर दिया गया है। इसके साथ ही बीएमसी ने 1305 इमारतें सील कर दी है। बिना मास्क पर बीएमसी और रेलवे प्रशासन का एक्शन में है।

हम आपको बता दे मुंबई में सिर्फ एक दिन में मास्क नहीं पहनने और कोरोना गाइडलाइंस का उल्लंघन करने वाले 15 हजार लोगों पर कारवाई की गई है। इसके साथ ही महाराष्ट्र सरकार ने कोरोना के फिर से बढ़ते मामले को देखते हुए पुणे में रात 11 बजे से सुबह 6 बजे के बीच जरूरी सेवाओं को छोड़कर किसी तरह की आवाजाही पर रोक लगा दी है। वहीं रेलवे ने 2900 यात्रियों से जुर्माने में 6 लाख 25 हज़ार रुपए वसूले है।

साथ ही पुणे में 28 फरवरी तक स्कूल और कॉलेज को बंद रखने का फैसला लिया गया है। वही एक बार फिर से कोचिंग सेंटर खोलने पर रोक लगा दी गई है। ये गाइडलाइंस कल से लागू होंगी। इसके साथ ही शादियों में 50 से ज्यादा लोगों के पहुंचने पर 1 लाख रुपये तक का फाइन भी लगाने पर विचार हो रहा है। विजय वाडेट्टीवार ने कहा, ‘महाराष्ट्र के कई जिलों में कोरोना वायरस के केस तेजी से बढ़ रहे हैं। इसके चलते सभी जिलाधिकारियों को कोरोना से निपटने के लिए नियमों को सख्ती से लागू करने के आदेश दिए गए हैं। उन्हें कोरोना से निपटने के लिए अपने स्तर पर सख्त नियम लागू करने के अधिकार भी दिए गए हैं।’

जानकारी के मुताबिक कोरोना के बढ़ते मामले के देखते हुए आज शाम 7 बजे मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Chief Minister Uddhav Thackeray) भी लोगों को संबोधित करेंगे।

आपको बता दें कि महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों ने सरकार की चिंताएं बढ़ा दी हैं। इसके साथ ही कोरोना के बढ़ते मामलो को लेकर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Chief Minister Uddhav Thackeray) ने मंगलवार को कहा था कि जब तक लोग कोरोना प्रोटोकॉल को कड़ाई से लागू नहीं करते, तब तक उन्हें राज्य में बढ़ते मामलों को देखते हुए लॉकडाउन के एक और मुकाबले के लिए तैयार रहना चाहिए।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here