बॉडर पर किसानों को रोकने के लिए पुलिस ने किया नुकीली कीलें और कंटीले तार.. की बार्रिकडिंग

दिल्ली के अलग-अलग बॉर्डर पर किसान पिछले करीब दो माह से आंदोलन पर डटे हैं और तीन नए कृषि कानूनों (Farm Laws) का विरोध कर रहे है

बॉडर पर किसानों को रोकने के लिए पुलिस ने किया नुकीली कीलें और कंटीले तार.. की बार्रिकडिंग
बॉडर पर किसानों को रोकने के लिए पुलिस ने किया नुकीली कीलें और कंटीले तार.. की बार्रिकडिंग

Kisan Andolan: दिल्ली के अलग-अलग बॉर्डर पर किसान पिछले करीब दो माह से आंदोलन पर डटे हैं और तीन नए कृषि कानूनों (Farm Laws) का विरोध कर रहे है लेकिन सरकार के प्रति उनका गतिरोध टूटने का नाम नहीं ले रहा. एक तरफ किसान इन कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे हैं, तो वहीं सरकार का जोर इन कानूनों में सुधारों पर है. लेकिन किसानो का कहना है की जब तक सरकार कानून वापस नहीं लेती तब तक हम दिल्‍ली से वापस नहीं लौटेंगे.

तो वही पुलिसकर्मियों ने किसानों को दिल्ली में दाखिल होने से रोकने के लिए टिकरी बॉर्डर के साथ दिल्ली की सीमाओं के पास विरोध स्थलों पर कई बैरिकेड और कांटेदार तार की बाड़ लगाई गई है इस पर किसान संयुक्‍त मोर्चा के प्रवक्‍ता ने कहा, किसानों को दिल्‍ली में आने से रोकने के लिए पुलिस जो पैंतरे आजमा रही, किसान संयुक्त मोर्चा इसकी निन्दा करता है. हमारे हौसले ऐसे ही रहेंगे और इनमें कोई कमी नहीं आई है

किसानों के दिल्ली में दाखिल होने की आशंका के मद्देनजर और किसान आंदोलन के चलते टिकरी बॉर्डर पर सुरक्षा इंतजामों को मजबूत किया गया है. पुलिस द्वारा पहले सीमेंट से रास्ते की घेराबंदी की गई फिर, अब सड़कों पर नुकीली कीलें तक लगाई गई हैं ताकि ट्रैक्टर दिल्ली में दाखिल न हो पाएं. तो वही गाजीपुर बार्डर पर किसान नेता ने कटीले तार और बेरीकेट के बीच सड़क पर खाना खाया और कहा कि इस किलेबंदी के बाद रोटीबंदी की कोशिश होगी लेकिन हम अक्‍टूबर तक यहीं रुकेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here