संसद में राहुल VS स्मृति, स्मृति ईरानी का राहुल गांधी पर पलटवार,आत्मनिर्भर बनाने वाला है आम बजट- स्मृति ईरानी

गुरुवार को लोकसभा में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने किसान आंदोलन के मुद्दे पर सरकार पर जमकर हमला किया. उन्होंने सरकार पर आरोप लगाया

(रिदम झा), नई दिल्ली: गुरुवार को लोकसभा में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने किसान आंदोलन के मुद्दे पर सरकार पर जमकर हमला किया. उन्होंने सरकार पर आरोप लगाया, प्रधानमंत्री पर आरोप लगाया, संसद का अपमान भी किया और बजट पर चर्चा करने से साफ इंकार भी कर दिया. लेकिन उसके बाद केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने उनके सारे आरोपो का जवाब दिया, बगेर नाम लिए. स्मृति ईरानी ने 17 बार राहुल को सज्जन कह कर पुकारा और उनके आरोपों पर पलटवार कर दिया. स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी पर परोक्ष रूप से तीखा हमला करते हुए उन पर झूठ की नींव पर इमारत खड़ी करने और सदन की गरिमा को नजरंदाज करने का आरोप लगाया. लोकसभा में बजट 2021-22 पर चर्चा करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि “यह बजट देश को आत्मनिर्भर बनाने और जोड़ने वाला है. जिसे कांग्रेस नेता सदन में ‘पीठ दिखाकर’ चले गए. उन्होंने कहा कि “एक व्यक्ति झूठ की नींव पर कितनी बड़ी इमारत बना सकता है और सदन की गरिमा का बिल्कुल ख्याल नहीं रखते हुए संसद से पारित कानून को किस तरह काला कहता है, यह आज देखने को मिला है”.

बता दें कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरुवार को तीन विवादित कृषि कानूनों को लेकर सरकार पर वार करते हुए राहुल गांधी ने दावा किया कि इन कानूनों से मंडिया खत्म हो जाएंगी और कृषि क्षेत्र कुछ बड़े उद्योगपतियों के हाथ में चला जाएगा. साथ ही राहुल ने यह भी कहा कि ‘‘सालों पहले परिवार नियोजन का नारा था, हम दो हमारे दो, जैसे कोरोना दूसरे रूप में आता है उसी तरह यह नारा फिर से आया है. यह नारा है हम दो और हमारे दो की सरकार है.” राहुल गांधी ने किसान आंदोलन पर चर्चा नहीं कराये जाने के विरोध में कहा कि वह सदन में ‘बजट पर चुप रहेंगे.

इस पर पलटवार करते हुए केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि कुछ लोग हतप्रभ हैं अगर बजट पर चर्चा है, तो कोई क्यों चर्चा नहीं करे. लेकिन जिस व्यक्ति ने अपने पूर्व संसदीय क्षेत्र अमेठी की सुध नहीं ली, वह बजट पर क्या चर्चा करेंगे?. उन्होंने कहा कि देश में जब कोरोना आया, तब हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह चिंता की कि कोई व्यक्ति भूखा नहीं सोए और उन्होंने गरीब कल्याण पैकेज के जरिये आठ महीने तक 80 करोड़ लोगों तक अनाज पहुंचाने का काम किया.

राहुल गांधी का नाम लिये बिना स्मृति ने कहा ‘‘लेकिन इस व्यक्ति को यह स्वीकार नहीं है कि 80 करोड़ लोगों तक अनाज कैसे पहुंच गया जिसमें 3.18 लाख अमेठी के लोग भी थे.” राहुल पर प्रहार जारी रखते हुए कहा कि “इस व्यक्ति ने कहा कि उनका बजट से कोई सरोकार नहीं है. ऐसा इसलिये है कि यह बजट आत्मनिर्भर, स्वस्थ्य योजना वाला बजट है”.

साथ ही स्मृति ईरानी (Smriti Irani) संसद में दिए अपने भाषण का ट्विटर पर वीडियो शेयर करते हुए ट्वीट में लिखा, ‘बजट में बस सेवा को सुदृढ करने के लिए प्रावधान पर चर्चा करने की जगह उठकर जाने वाले सज्जन 30 साल में अमेठी में तिलोई बस अड्डा तक बना नहीं पाए. जहां उनकी चार पीढ़ी अमेठी को सिर्फ सपना दिखाती रही, वहीं दूसरी तरह मोदी जी के कार्यकाल में सड़क एवं रेल मार्गों का जाल बिछाया गया.’

स्मृति ईरानी ने संसद के जिस वीडियो को शेयर किया उसमें वो कहती है कि “इस बजट को जिसको पीठ दिखाकर गए हैं वो सज्जन, इसमें छोटा सा प्रावधान है, 18,000 करोड़ रुपये बस की सेवा को सुदृढ़ करने के लिए दिया जाएगा, पीठ दिखाकर चले गए, बस की सुविधा को पर चर्चा नहीं की, बड़े लोग हैं. लेकिन एक सत्य यह भी है कि अमेठी में 30 साल से तिलोई का बस अड्डा नहीं बना पाएं.’ जनता मांगती रही, मांगती रही लेकिन नही हो पाया. विपक्ष पर पलटवार करते हुए उन्होंने कहा कि चर्चा कर लीजिए ‘दूध का दूध और पानी का पानी’ हो जाएगा.

स्मृति ईरानी ने राहुल पर आरोप लगाते हुए कहा कि ‘‘जो सज्जन आज बाल हठ का उदाहण दे रहे थे, “उन्होंने पूर्व में सांसद रहते हुए, इस क्षेत्र के विकास के लिये कुछ नहीं किया. यह क्षेत्र चार पीढ़ियों तक रेल लाइन की मांग को पूरा किये जाने का इंतजार करता रहा”.”उन्होंने आरोप लगाया कि किसानों की जमीन उद्योग के नाम पर मांगी गयी लेकिन ट्रस्ट के लिये उसका उपयोग कर लिया गया. इसके बाद स्मृति ईरानी ने कहा, ‘‘ ये बजट देश को जोड़ने वाला बजट है, तोड़ने वाला नहीं. यह देश को आत्मनिर्भर बनाने का बजट है.”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here