उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर फटने से हुआ बड़ा हादसा, कई लोगो की मौत, UP में हाई अलर्ट जारी, सीएम ने किया मुआवजे का एलान

आज फिर उत्तराखंड प्रकृति का भयावह रूप देखने को मिला। चमोली जिले में स्थित नंदा देवी ग्लेशियर का एक हिस्सा आज सुबह अचानक फटने से तबाही मच गई ।

उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर फटने से हुआ बड़ा हादसा, कई लोगो की मौत, UP में हाई अलर्ट जारी, सीएम ने किया मुआवजे का एलान
उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर फटने से हुआ बड़ा हादसा, कई लोगो की मौत, UP में हाई अलर्ट जारी, सीएम ने किया मुआवजे का एलान

(श्रद्धा उपाध्याय), उत्तराखंड : आज फिर उत्तराखंड प्रकृति का भयावह रूप देखने को मिला। चमोली जिले में स्थित नंदा देवी ग्लेशियर का एक हिस्सा आज सुबह अचानक फटने से तबाही मच गई । जिसकी वजह से धौली गंगा नदी का जल स्तर अचानक बढ़ने से बाढ़ जैसी स्थिति उत्पन्न हुई है। साथ ही चमोली नंदा देवी नेशनल पार्क के कोर जोन में स्थित ग्लेशियर फटने की वजह से रैणी गांव के पास ऋषि गंगा तपोवन हाइड्रो प्रोजेक्ट का बांध टूट गया। और हादसे में इस प्रोजेक्ट में काम कर रहे कई मजदूर बहने की बात कही जा रही है। खबरों के मुताबिक वहां करीब 150 मजदूर काम कर रहे थे।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी। साथ ही किसी भी तरह की अफवाहों से बचने के लिए कहा है। और साथ ही बताया हादसे से घाटी में जारी दो जल विद्युत परियोजनाओं को भीषण नुकसान पहुंचा है। बताया जा रहा है कि – “धौली गंगा नदी के बाईं ओर से इसकी सहायक नदी ऋषि गंगा भी बहती है, जो कि नंदा देवी पर्वत से आती है। यह अनुमान लगाया जा रहा है कि इस नदी के ऊपरी बहाव क्षेत्र में एक ग्लेशियर झील बना और उसके कारण हिमस्खलन हुआ। चूंकि यह एक बहुत ही दुर्गम इलाका है और 10 साल में सिर्फ एक बार फॉरेस्ट विभाग के लोग इसका निरीक्षण करते हैं, इसलिए इस घटना का किसी को अंदाजा तक नहीं था।”

वही ITBP ने तपोवन डेम के पास टनल में फंसे 16 लोगों को सकुशल बाहर निकाला है । बता दें उत्तराखंड आईटीबीपी डीजी सुरजीत सिंह देसवाल के अनुसार, अब तक 9 से 10 शव मिल चुके हैं। जबकि करीब 25-50 मजदूर अभी भी लापता हैं। अब इस घटना के बाद चमोली से हरिद्वार तक खतरा बढ़ गया है। और ऋषिकेश और हरिद्वार में भी गंगा के किनारे लोगों को न जाने की चेतावनी दी गई है। दरअसल हरिद्वार में इन दिनों कुंभ मेला का आयोजन किया जा रहा है। इस वजह से वहां लोगों की भीड है। वही प्रशासन की टीम मौके के लिए रवाना हो गई है। साथ ही चमोली जिले के नदी किनारे की बस्तियों को पुलिस लाउडस्पीकर से अलर्ट कर रही है, कर्णप्रयाग में अलकनंदा नदी किनारे बसे लोग मकान खाली करने में जुटे।

प्रधानमंत्री मोदी ट्वीट
चमोली में तबाही के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विट कर कहा कि उत्तराखंड में दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति पर लगातार निगरानी कर रहे हैं। देश उत्तराखंड के साथ खड़ा है और राष्ट्र सभी की सुरक्षा के लिए प्रार्थना करता है।

मृतकों के परिवार को मुआवजे का एलान
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा, अगर आप प्रभावित क्षेत्र में फंसे हैं, आपको किसी तरह की मदद की जरूरत है तो कृपया आपदा परिचालन केंद्र के नंबर 1070 या 9557444486 पर संपर्क करें। कृपया घटना के बारे में पुराने वीडियो से अफवाह न फैलाएं। वहीं, सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत  ने आपदा में मृतकों के परिवार को चार-चार लाख रुपये देने की घोषणा की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here