बिना बहुमत के राज्यसभा में कैसे पास कराया ट्रिपल तलाक बिल, बीजेपी सरकार ने?

Amit shah
बिना बहुमत के राज्यसभा में कैसे पास कराया ट्रिपल तलाक बिल, बीजेपी सरकार ने?

(अनुराग चौहान)दिल्ली : नमस्कार आप सब का जन सैलाब में स्वागत है तीन तलाक बिल जो 25 जुलाई को लोकसभा में पास हो कर राज्य सभा में पेश हुआ था अब राज्यसभा में भी तीन तलाक बिल पास हो चूका है हम आपको बता दे की राज्य सभा में कुल 245 सदस्य संसद होते है लेकिन इस टाइम 4 सदस्य संसद कि सीटें खाली थी जिसके कारण सदस्यों की संख्या 241 थी इसलिए इस बिल को राज्य सभा में पास होने के लिए 221 सदस्यों का समर्थन चाहिए था लेकिन एनडीए के पास सिर्फ 113 सदस्य थे इस लिए इस बिल को पास होने में परेशानी दिख रही थी लेकिन यह बिल बिना किसी परेशानी के पास हो गया इस बीच सेलेक्ट कमेटी को बिल भेजने का प्रस्ताव भी रद्द हो गया और दिग्विजय सिंह का बिल में संशोधन का प्रस्ताव भी रद्द हो गया इसके बाद राज्य सभा में इस बिल के ऊपर वोटिंग हुई और इस बिल के समर्थन में 84 वोट पड़े और विरोध में 100 वोट पड़े इसके बाद तीन तलाक बिल राज्य सभा में पास हो गया इस बिल को अब राष्ट्रपति के पास के पास भेजा जाएगा अब आपको हम यह बता दे की यह बिल बिना बहुमत के पास कैसे हो गया इसके पीछे विपक्ष  का अलग – अलग रहना है इस बिल के दौरान विपक्ष की एकता में कमी साफ दिखाई दी.

इस बिल का विरोध कर  रहें 6 दल वोटिंग से गायब रहे इस के साथ ही जेडीयू, बीएसपी, एआईएडीएमके, टीआरएस ने वोटिंग से वॉकआउट किया इसी कारण मोदी सरकार का दावा मजबूत रहा और तीन तलाक बिल बहुत आसानी से पास हो गया हम आपको बतादे की इस वोटिंग के दौरान विपक्ष के कई नेता सदन में गैरहाजिर रहे जैसे की टीएस तुलसी, प्रफुल्ल पटेल, जेठमलानी, शरद पवार इन सब कारण से ही विपक्ष का दावा कम जोर पड़ गया.

 

आपको यह ख़बर कैसी लगी हमें कमेंट में लिख कर जरूर बताए और ऐसी ख़बरों के लिए जन सैलाब के साथ जुड़े रहे धन्यवाद.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here