Farmer Protest Jantar Mantar Live : जंतर मंतर पर किसानों का धरना प्रदर्शन जारी, “हम चलाएंगे अपनी संसद” – राकेश टिकैत

तीन कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर लंबे समय से धरने पर बैठे किसान आज जंतर - मंतर पर धरना दे रहे है।

Farmer Protest Jantar Mantar Live : जंतर मंतर पर किसानों का धरना प्रदर्शन जारी,
Farmer Protest Jantar Mantar Live : जंतर मंतर पर किसानों का धरना प्रदर्शन जारी, "हम चलाएंगे अपनी संसद" - राकेश टिकैत

(श्रद्धा उपाध्याय), नई दिल्ली:  Farmer Protest Jantar Mantar Live : तीन कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर लंबे समय से धरने पर बैठे किसान आज जंतर – मंतर पर धरना दे रहे है। किसान प्रदर्शनकारियो के इस धरना प्रदर्शन को कल दिल्ली सरकार द्वारा मंजूरी दी गई है। जिसके बाद आज 22 जुलाई से 9 अगस्त तक सुबह 11 बजे से शाम 5 बजे के बीच जंतर मंतर पर विरोध प्रदर्शन करने की इजाजत दी गई है। इसके साथ ही इस बीच प्रतिदिन केवल 200 प्रदर्शनकारी किसानो को ही धरना देने दिया जायेगा। इसके साथ ही इस दौरान कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच ये धरना प्रदर्शन होगा। और आज से किसानो के इस धरना प्रदर्शन की शुरुआत हो चुकी है। और किसान प्रदर्षनकारी मानसून सत्र के बीच जंतर मंतर पर आज धरना प्रदर्शन पर पैदल मार्च करते हुए पहुंच गए है। इसके साथ ही किसान यूनियन नेता राकेश टिकैत भी धरना स्थल पर पहुंचे है। इसके अलावा कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने नए कृषि कानूनों को रद्द किए जाने के विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया।

बता दें दिल्ली पुलिस के सूत्रों ने बताया कि प्रतिदिन चार बसों में 200 किसानों का एक समूह पुलिस की सुरक्षा के साथ बसों में सिंघू सीमा से जंतर-मंतर आएगा और वहां सुबह 11 बजे से शाम 5 बजे तक विरोध प्रदर्शन होगा। सभी किसानो का कहना है ये धरना प्रदर्शन शांतिपूर्ण तरिके से किया जायेगा। दिल्ली पुलिस की सभी बातें भी स्वीकार की जाएगी और यदि हमारे किसान किसी बात को इंकार करते है तो वो खुद शांति से अपनी गिरफ्तारी दे देंगे।

वही अब किसानो का धरना प्रदर्शन जंतर मंतर पर जारी है। भारी सुरक्षा के बीच किसान जंतर-मंतर पर अपनी समानांतर संसद लगाए बैठे है। कृषि कानून वापस लेने की मांग को लेकर कांग्रेस के सांसदों ने संसद भवन परिसर में गांधी प्रतिमा के सामने प्रदर्शन किया है। दूसरी ओर किसानो को लेकर आ रही बस को दिल्ली बॉर्डर पर रोक दिया गया था। दरअसल, दिल्ली पुलिस किसानो को दूसरे रुट से लाने की बात कह रही थी। वही रस्ते में पुलिस ने किसानो की बस में बैठे किसानो की गिनती भी की। पुलिस इसके बाद सभी किसानों को एक रिजॉर्ट्स के अंदर लेकर गई थी, ताकि उनकी गिनती की जा सके।

इसी बीच किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने के बयान जारी किया है। उन्होंने कहा -“हम चलाएंगे अपनी संसद, सदन में किसानों के लिए आवाज नहीं उठाने पर संसद सदस्यों (सांसदों) की उनके निर्वाचन क्षेत्रों में आलोचना की जाएगी.’

इसके साथ ही कल दिल्ली सरकार के आदेश जारी करने के बाद किसानो ने कहा था हम मानसून सत्र के बीच अपनी संसद बाहर ही लगाएंगे। दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा कल किसानो को जंतर मंतर पर धरना प्रदर्शन की इजाजत दी गयी है। वही उपराज्यपाल अनिल बैजल ने 9 अगस्त तक ही धरने की अनुमति दी है। यह अनुमति 26 जनवरी को किसानो द्वारा ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा के बाद दी गई है।

आपको बता दें दिल्ली से लगे टिकरी बॉर्डर, सिंघू बॉर्डर तथा गाजीपुर बॉर्डर पर ह्जारो किसान पिछले साल नवम्बर 2020 से धरना दे रहे है। इस बीच कई बार किसान संगठन और केंद्र सरकार के बीच 11 दौर की वार्ता भी हुई। लेकिन इसके बावजूद भी कोई हल नहीं निकला। किसान इन तीन कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे है। वही सरकार इनमे संशोधन करने का बोल रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here