अंबानी के घर एंटीलिया के बाहर विस्‍फोटक मामले के तार तिहाड़ से जुड़े, जेल में IM आतंकी के पास से मिला फोन: सूत्र

मुंबई में मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के घर एंटीलिया के बाहर मिले कार में विस्फोटक और जैश-उल-हिंद की धमकी के मामले में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गुरुवार को तिहाड़ जेल में छापेमारी की थी.

अंबानी के घर एंटीलिया के बाहर विस्‍फोटक मामले के तार तिहाड़ से जुड़े, जेल में IM आतंकी के पास से मिला फोन: सूत्र
अंबानी के घर एंटीलिया के बाहर विस्‍फोटक मामले के तार तिहाड़ से जुड़े, जेल में IM आतंकी के पास से मिला फोन: सूत्र

मुंबई में मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के घर एंटीलिया के बाहर मिले कार में विस्फोटक और जैश-उल-हिंद की धमकी के मामले में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गुरुवार को तिहाड़ जेल में छापेमारी की थी. छापेमारी के दौरान जेल की नंबर 8 के बैरक से मोबाइल फोन रिकवर किए गए। सूत्रों ने जानकारी दी है कि स्पेशल से ने इंडियन मुजाहिदीन के एक आतंकी के बैरक से मोबाइल फोन सीज़ किया है. अब इससे जेल की सुरक्षा पर सवाल खड़ा हो रहा है कि आखिर एक आतंकी तक कैसे मोबाइल पहुंच गया, कियोकि ये हाई सिक्योरिटी वार्ड में होते हैं. वही बताया जा रहा है कि जेल की जिस बैरक से मोबाइल रिकवर किए गए हैं, उसमें आतंकी संगठनों के सदस्य भी मौजूद हैं।

वही पुलिस सूत्रों के मुताबिक, ”एक टेलीग्राम चैनल ने मुंबई में उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के पास विस्फोटक से भरी एसयूवी रखने की जिम्मेदारी लेने का दावा किया था, जिसे दिल्ली के तिहाड़ जेल के एक बैरक के अंदर से बनाया गया था, जहां एक इंडियन मुजाहिदीन आतंकवादी रखा जा रहा है।” तिहाड़ जेल में कल शाम 6 बजे से रात 9 बजे तक दिल्ली स्पेशल सेल ने जेल नम्बर 8 में रेड की थी, जिसके बाद इंडियन मुजाहिदीन के आतंकी तहसीन अख्तर के बैरक से मोबाइल सीज़ हुआ है. बताया जा रहा है की इसी मोबाइल से टेलीग्राम चैनेल एक्टिवेट किया गया था.

बता दे तहसीन अख्तर पटना के गांधी मैदान में पीएम नरेंद्र मोदी की रैली में बम धमाके, हैदराबाद में ब्लास्ट, बोधगया बम धमाकों में शामिल रहा है पुलिस अधिकारियों ने कहा कि टेलीग्राम मैसेजिंग ऐप में खाता बनाने के लिए टॉर ब्राउज़र का उपयोग करके एक वर्चुअल अकाउंट बनाया गया था, उसके बाद धमकी भरा पोस्टर/मैसेज तैयार किया गया. अधिकारी ने कहा कि पुलिस तहसीन अख़्तर को जेल से रिमांड पर लेकर स्पेशल सेल पूछताछ करने की योजना बना रही है।

एक दूसरा नम्बर भी स्पेशल सेल के रडार पर है. यह नंबर सितंबर में एक्टिवेट हुआ था और फिर बाद में बंद कर दिया गया था. सूत्रों के मुताबिक 2 मोबाइल नंबर फर्जी आईडी का इस्तेमाल करके खरीदे गए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here