टूलकिट केस में दिशा रवि को 3 दिन की न्यायिक हिरासत, भेजा गया जेल

पटियाला हाउस कोर्ट ने टूलकिट मामले में गिरफ्तार दिशा रवि को तीन दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. दिल्ली पुलिस आज दिशा को लेकर पटियाला हाउस कोर्ट पहुंची

टूलकिट केस में दिशा रवि को 3 दिन की न्यायिक हिरासत, भेजा गया जेल
टूलकिट केस में दिशा रवि को 3 दिन की न्यायिक हिरासत, भेजा गया जेल

(रिदम झा), Disha Ravi Case: पटियाला हाउस कोर्ट ने टूलकिट मामले में गिरफ्तार दिशा रवि को तीन दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. दिल्ली पुलिस आज दिशा को लेकर पटियाला हाउस कोर्ट पहुंची, जहां पर 3 दिन की न्यायिक हिरासत की मांग की गई थी. जिसके बाद अदालत ने दिल्ली पुलिस की इस मांग को मंजूर किया है. बता दें कि दिशा रवि की पांच दिन की पुलिस रिमांड गुरुवार को खत्म हो गया है जिसके बाद दिशा को अदालत में पेश किया गया था.

दरअसल पुलिस ने कोर्ट में कहा कि दिशा अपना जवाब देने से कतरा रही है, इसलिए उनको 3 दिन के लिए ज्यूडिशियल कस्टड़ी में भेजा जाए. दिल्ली पुलिस ने फिलहाल दिशा रवि की पुलिस रिमांड बढ़ाने की ही मांग नहीं की बल्कि पुलिस का कहना है कि वह 22 फरवरी को दिशा, शांतनु मुलुक और निकिता जैकब को एक साथ बिठाकर आमना-सामना कराना चाहती है. जिसकी वजह से पुलिस को उनके कस्टडी में रहने की जरूरत 22 फरवरी को रहेगी, इसलिए आज आरोपी को जेल भेज दिया जाए.

कोर्ट में पुलिस ने बताया कि दिशा पुलिस कस्टडी में पूछताछ के वक्त सवालों से कतरा रही थी और सारा दोष निकिता और शांतनु पर मढ़ रही है. पुलिस इसलिए आमने सामने बिठाकर इन तीनों से पूछताछ करना चाहती है. शांतनु मुलुक को दिल्ली पुलिस ने नोटिस भेजकर पूछताछ में शामिल होने को कहा है. जिसके बाद 22 फरवरी को पुलिस उनका आमना-सामना कराएगी.

वहीं दिशा रवि की तरफ से जमानत याचिका पटियाला हाउस कोर्ट में दाखिल की गई है. इसकी सुनवाई सेशन कोर्ट में शनिवार को होगा. वहीं इस मामले में आरोपी वकील निकिता जैकब और शांतनु मुलुक को महाराष्ट्र के हाईकोर्ट से अग्रिम जमानत मिल चुकी है.

दिशा रवि की एक याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट में भी आज हुई सुनवाई
दिशा रवि की एक याचिका पर आज सुबह दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई हुई. जिसमें दिशा ने हाईकोर्ट से निवेदन किया था कि उनके एफआईआर से जुड़ी जांच की कोई भी जानकारी पुलिस को मीडिया में लीक करने से रोका जाए. जिस पर हाईकोर्ट ने फैसला सुनाते हुए मीडिया से कहा कि यह सुनिश्चित करे कि प्रसारण सत्यापित और ऑथेंटिक स्रोतों से हो. साथ ही कहा कि संपादकीय टीम यह सुनिश्चित करें कि इस तरह के प्रकरण में सत्यापित सामग्री हो और चैनल संपादकों को सही तरिके से संपादकीय नियंत्रण सुनिश्चित करना होगा ताकि इसके वजह से जांच में कोई बाधा न आए. एक बार चार्जशीट के खत्म हो जाने के बाद, चार्जशीट का कवरेज किसी भी तरह से अंतर्विरोधित नहीं होगा.

हाईकोर्ट ने पक्षकारों को हलफनामा दाखिल करने के लिए समय दिया है. अगली सुनवाई 17 मार्च को होगी. दिशा ने अपने व्हाट्सऐप वार्तालाप के बारे में सभी जानकारी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म से डिलीट करने के लिए मांग की है. दिशा रवि ने चार्जशीट दाखिल होने तक दिल्ली पुलिस को मीडिया के साथ किसी भी जानकारी को साझा करने से रोकने की मांग की है.

जिसके बाद हाईकोर्ट ने पक्षकारों को हलफनामा दाखिल करने के लिए समय दिया है. हाईकोर्ट ने दिशा की ओर से उपक्रम को दर्ज कर लिया कि उनके जानकार इस मामले में अनावश्यक/ अपमानजनक मैसेज नहीं देंगे. इससे ये सुनिश्चित होगा कि कोई भी पक्षकार जांच को नुकसान नहीं पहुंचाएगें. वहीं बता दें कि दिशा रवि की अगली सुनवाई 17 मार्च को होगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here