सीएम ममता के ‘मां किचन’ में मिलेगा मात्र 5 रुपये में भरपेट भोजन

बंगाल विधानसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है, चुनाव में महज कुछ ही दिन बाकी है. ऐसे में सभी पार्टी अपनी- अपनी एड़ी चोटी का बल लगा रही है.

सीएम ममता के 'मां किचन' में मिलेगा मात्र 5 रुपये में भरपेट भोजन
सीएम ममता के 'मां किचन' में मिलेगा मात्र 5 रुपये में भरपेट भोजन (PTI)

(रिदम झा), Bengal Election: बंगाल विधानसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है, चुनाव में महज कुछ ही दिन बाकी है. ऐसे में सभी पार्टी अपनी- अपनी एड़ी चोटी का बल लगा रही है. आपने कर्नाटक की इंदिरा कैंटीन और तमिलनाडु की अम्मा कैंटीन के बारे में तो सुना ही होगा, या पढ़ा होगा इसी के तर्ज पर चुनावों से कुछ महीने पहले पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी ‘मां किचन’ शुरू किया है. ‘मां किचन’ के जरिए लोगों को सस्ते दामों पर पोषण भरा खाना मिलेगा. लोगों इस थाली में चावल, दाल, सब्जी और एक अंडा करी खा पाएंगे. यह खाने की थाली सिर्फ 5 रुपए में मिलेगा. वहीं भारतीय जनता पार्टी ने ‘मां किचन’ को चुनावी स्टंट बताया है. हालांकि, तृणमूल कांग्रेस ने निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री मोदी का ध्यान उनके द्वारा चुनावों से कुछ महीने पहले राज्य में कई इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट लॉन्च किए की ओर करवाया.

मां किचन का किया लोकार्पण
सचिवालय नबन्ना में मुख्यमंत्री ने अपनी इस नई योजना का लोकार्पण करते हुए कहा कि “यह मां किचन है, हमें अपनी मां पर गर्व हैं. जहां भी कोई मां होगी वहां चीजें अच्छी होंगी. हम सब अपनी माओं को सलाम करते हैं” ममता बनर्जी की यह तीसरी योजना है जिसे गरीबों के लिए लाया गया है.

इस से पहले ममता बनर्जी फ्लैगशिप योजनाएं- दुआरे सरकार और स्वास्थ्य साथी शुरू कर चुकी हैं. हालांकि अभी कोलकाता में ही इन योजनाओं को शुरू किया गया है, जिसके बाद पूरे राज्य में इसे शुरू किया जाएगा.

लोग भिखारी बन गए हैं- दिलीप घोष
वहीं बंगाल भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने मुख्यमंत्री पर हमला करते हुए कहा कि ‘बंगाल के लोगों के पास खाना खरीदने तक के पैसे नहीं है, इसलिए उनको मां कैंटीन चलानी पड़ रही है ताकि उन्हें पांच रुपए में खाना मिल सके. उन्होंने साबित कर दिया है कि वो असफल रही हैं. लोग भिखारी बन गए हैं और उन्हें पांच रुपए में खाना खिलाना पड़ रहा है.’

भाजपा पर तृणमूल कांग्रेस मंत्री फिरहाद हाकिम का पलटवार
जिसके बाद पश्चिम बंगाल के शहरी विकास मंत्री फिरहाद हाकिम ने पलटवार करते हुए कहा कि “बीजेपी को बस चुनावों के वक्त ही बंगाल की याद आती है. प्रधानमंत्री बस चुनावों के वक्त ही इतनी बार यहां क्यों आते हैं? वो यहां परियोजनाओं के उद्घाटन के लिए आए हैं. वो लोग फालतू के सवाल उठा रहे हैं. यह कोई चुनावी थाली नहीं है. कन्याश्री, रूपाश्री, स्वास्थ्य साथी सभी योजनाएं अच्छे से काम कर रहीहैं.’ साथ ही कहा कि मुख्यमंत्री ने निवेशकों को आकर्षित करने के लिए कई परियोजनाओं की शुरुआत की है, जिसमें एक आईटी पार्क भी शामिल है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here