CBSE 12th Result Date : 31 जुलाई तक घोषित होंगे सीबीएसई 12वीं के परीक्षा परिणाम, जानिए इस आधार पर होगी मार्किंग

सीबीएसई 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं रद्द होने के बाद से लाखो छात्र अपने परीक्षा परिणाम की तारीख का इंतजार कर रहे थे।

CBSE 12th Result Date : 31 जुलाई तक घोषित होंगे सीबीएसई 12वीं के परीक्षा परिणाम, जानिए इस आधार पर होगी मार्किंग
CBSE 12th Result Date : 31 जुलाई तक घोषित होंगे सीबीएसई 12वीं के परीक्षा परिणाम, जानिए इस आधार पर होगी मार्किंग

(श्रद्धा उपाध्याय), नई दिल्ली: सीबीएसई 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं रद्द होने के बाद से लाखो छात्र अपने परीक्षा परिणाम की तारीख का इंतजार कर रहे थे। ऐसे सभी छात्रों का इंतजार आज केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने खत्म कर दिया है। इसके साथ ही 12वीं के छात्रों के परीक्षा परिणामों की तारीख सामने आ गई है। सीबीएसई ने आज सुप्रीम कोर्ट को बताया है कि कक्षा 12वीं के परिणाम 31 जुलाई तक घोषित कर दिए जाएंगे।

बता दें, 1 जून को पीएम नरेंद्र मोदी ने कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच सीबीएसई 12वीं की परीक्षा रद्द करने का फैसला लिया था। इसके बाद से ही 12 लाख छात्र अपने परीक्षा परिणाम की तारीख का अनुमान लगा रहे थे। इसी बीच सीबीएसई की ओर से 12वीं के रिजल्ट का एलान कर दिया गया है। इसके साथ ही सीबीएसई की ओर से आज सुप्रीम कोर्ट में 12वीं रिजल्ट तैयार करने को लेकर मार्किंग प्रक्रिया भी पेश की गई है। इसको लेकर 13 सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया था। जिसके बाद बारहवीं के परीक्षा परिणाम की तारीख और मार्किंग नीति तय का फैसला लिया गया।

वही अब CBSE की 13 सदस्यीय कमेटी 10वीं, 11वीं और 12वीं के नंबर यानि 30:30:40 के अनुपात में जोड़कर रिजल्ट तैयार करने के तरीके पर राजी हुई है। जिसके बाद अब 12वीं का रिजल्ट 10वीं व 11वीं की परीक्षा और 12वीं प्री बोर्ड परीक्षा में छात्रों के प्रदर्शन के आधार पर जारी किया जायेगा। ओवरऑल बात की जाए, तो 10वीं-11वीं को 30-30% और 12वीं को 40% वेटेज दिए जाने पर बात हुई है। सीबीएसई ने सुप्रीम कोर्ट को जारी अपनी रिपोर्ट के आधार पर बताया कि 10वीं और 11वीं के 5 विषय में से किन्ही तीन बेस्ट विषय के मार्क्स लिए जायेंगे।

इस विषय में अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने अदालत से कहा है कि जो भी स्कूल छात्रों के प्रदर्शन बेहतर दिखाने के लिए उदार अंक देंगे उनकी जांच के लिए एक “मॉडरेशन कमेटी” का गठन किया जाएगा। इसके अलावा 12 सदस्यीय समिति ने अदालत को बताया कि प्रैक्टिकल 100 अंकों के होंगे और स्कूलों द्वारा दिए गए अंकों के आधार पर छात्रों का मूल्यांकन किया जाएगा। इसके साथ ही वेणुगोपाल ने अदालत को बताया कि ‘यदि कोई छात्र इन योग्यता मानदंडों को पूरा नहीं कर पाता है तो उसे ‘आवश्यक दोहराव’ या ‘कम्पार्टमेंट’ की परीक्षा देनी होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here