बिहार: नीतीश कैबिनेट मंत्रिमंडल विस्तार पर लगा विराम, कल इन मंत्रियों को सौंपा जा सकता है मंत्री पद

बिहार में नीतीश सरकार के कैबिनेट मंत्रिमंडल का विस्तार कल होने जा रहा है। काफी लंबे समय से इसके विस्तार को लेकर देरी को लेकर काफी बार विवाद भी छिड़ चुका है।

बिहार: नीतीश कैबिनेट मंत्रिमंडल विस्तार पर लगा विराम, कल इन मंत्रियों को सौंपा जा सकता है मंत्री पद
बिहार: नीतीश कैबिनेट मंत्रिमंडल विस्तार पर लगा विराम, कल इन मंत्रियों को सौंपा जा सकता है मंत्री पद (PTI)

(श्रद्धा उपाध्याय), बिहार: बिहार में नीतीश सरकार के कैबिनेट मंत्रिमंडल का विस्तार कल होने जा रहा है। काफी लंबे समय से इसके विस्तार को लेकर देरी को लेकर काफी बार विवाद भी छिड़ चुका है। जिसके बाद अब इसपर लगाम लगने जा रही है। और अब कल यानी मंगलवार को इसका विस्तार होने जा रहा है। वर्तमान में बिहार के सीएम नितीश कुमार समेत 13 मंत्री हैं, जबकि 25 मंत्रियों की जगह अभी भी खाली है।

खबरों के मुताबिक बीजेपी की ओर से शाहनवाज हुसैन, सम्राट चौधरी, नितिन नवीन और संजीव चौरसिया को मंत्री पद सौंपा जा सकता है। वही दूसरी ओर जेडीयू से जामा खान, संजय झा और सुमित सिंह के नामों की चर्चा है। इनके अलावा जेडीयू के मदन साहनी, नीरज कुमार, जयंत कुशवाहा भी मंत्री बनाए जा सकते हैं। और बीजेपी से संजय सरावगी, भागीरथी देवी और नीरज बबलू भी शामिल हैं।

बीजेपी पर कसा तंज
वे अब नितीश सरकार ने कैबिनेट मंत्रिमंडल विस्तार से पूर्व बिहार के सीएम नीतीश कुमार बीजेपी पर तंज कसा है। मंत्रिमंडल विस्तार में देरी की वजह बीजेपी को बताया गया। नीतीश कुमार ने कहा – उनके पास अभी तक बीजेपी की तरफ से मंत्रियों की सूची नहीं आई है। जिसके चलते मंत्रिमंडल विस्तार में देरी हो रही है। सोमवार को नितीश कुमार बताया कि जब भी बीजेपी की ओर से मंत्रियों की लिस्ट दे दी जाएगी। जिसके तुरंत बाद ही मंत्रिमंडल का विस्तार कर दिया जायेगा।

वही 16 नवम्बर को बिहार में हुए नये नितीश सरकार के गठन में मुख्यमंत्री समेत 14 मंत्रियों ने शपथ ली थी। बिहार में अभी भी ऐसे कई मंत्री है जिनके पास 5-6 विभागों की जिम्मेदारी है। और इसके चलते एक ही आदमी पर लगातार काम का बोझ पड़ रहा है। जिसके बाद नितीश सरकार पर सवाल उठाये जा रहे है कि इन परिस्थितियों में भी क्यों नहीं नितीश कुमार अपने मंत्रिमंडल का विस्तार नहीं कर रहे है ? सूत्रों के मुताबिक, नीतीश कैबिनेट में बचे हुए मंत्रियों की संख्या का 50-50 फॉर्मूले के साथ-साथ बीजेपी-जेडीयू के पास मौजूदा विभागों में से ही अपने- अपने कोटे के मंत्रियों के विभाग का बंटवारा करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here