ग्रेटा थनबर्ग के ट्वीट पर हुई FIR को लेकर असदुद्दीन ओवैसी का दिल्ली पुलिस प्रहार, इन तीखे शब्दों से की बयानबाजी

किसान आंदोलन में विदेशी लोगो का समर्थन बरकरार है। लगातार एक के बाद एक हॉलीवुड हस्ती भारत में चल रहे किसान आंदोलन को लेकर ट्वीट कर रहे है।

ग्रेटा थनबर्ग के ट्वीट पर हुई FIR को लेकर असदुद्दीन ओवैसी का दिल्ली पुलिस प्रहार, इन तीखे शब्दों से की बयानबाजी
ग्रेटा थनबर्ग के ट्वीट पर हुई FIR को लेकर असदुद्दीन ओवैसी का दिल्ली पुलिस प्रहार, इन तीखे शब्दों से की बयानबाजी

(श्रद्धा उपाध्याय), Asaduddin Owaisi: किसान आंदोलन में विदेशी लोगो का समर्थन बरकरार है। लगातार एक के बाद एक हॉलीवुड हस्ती भारत में चल रहे किसान आंदोलन को लेकर ट्वीट कर रहे है। जहां सबसे पहले मुद्दा उठाने वाली पॉप सिंगर रिहाना थी। उसके बाद मिया खलीफा और ग्रेटा थनबर्ग भी इस लिस्ट में शामिल हो गई है। वही ग्रेटा के ट्वीट पर तो दिल्ली पुलिस ने FIR तक दर्ज कर दी है। क्यूंकि दिल्ली पुलिस का कहना है, ग्रेटा थनबर्ग द्वारा किये गए ट्वीट में डॉक्यूमेंट टूलकिट भी शेयर किया गया था। इसमें भारत सरकार के ऊपर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर दबाव बनाने की रुपरेखा थी। अब दिल्ली पुलिस के केस दर्ज करने से लेकर FIR दर्ज करने के बाद उनको काफी आलोचनाओं का शिकार होना पड़ रहा है। आलोचना करने में पहला नाम AIMIM पार्टी के प्रमुख और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी का आता है। जिन्होंने ग्रेटा पर FIR होने के बाद दिल्ली पुलिस पर सीधा प्रहार करते हुए अपने तीखे बयान दिए है।

ट्वीट में ओवैसी ने लिखा
असदुद्दीन ओवैसी ने ग्रेटा का पक्ष लेते हुए दिल्ली पुलिस पर हम बोला है। अपने एक ट्वीट में ओवैसी लिखते है कि- ‘दिल्ली की सड़कों से अपराध का पूरा खात्मा कर चुकी दिल्ली पुलिस अब भारत की सबसे बड़ी दुश्मन- विचार रखने वाली एक स्वीडिश टीनएजर- से लड़ने की चुनौती स्वीकार कर चुकी है। अगला FIR किसपर होगा? जानवरों पर अत्याचार करने के आरोप में सैंटा क्लॉज़ पर? दिल्ली दंगों के पीड़ित अभी तक न्याय का इंतजार कर रहे हैं.’ इस तरह ओवैसी ने अपने तीखे शब्दों से बयानबाजी की है।

दिल्ली पुलिस ने बताया कि FIR किसी के नाम पर दर्ज नहीं की गई है। यह FIR केवल ग्रेटा थनबर्ग की ओर से ट्वीट किए गए एक टूलकिट के आधार पर हुई है। वही पुलिस के मुताबिक, इसमें खास तारीख पर ‘ट्विटर स्ट्रॉर्म’ का भी जिक्र हुआ है.जिसके बाद इस टूलकिट की जांच की जा रही है। साथ ही इन सबके बाद विदेश मंत्रालय की ओर से भी आलोचना सुनने को मिली थी।

आपको बता दें ग्रेटा थनबर्ग स्वीडन की पर्यावरण कार्यकर्ता हैं। और वो दुनियाभर में जलवायु परिवर्तन को लेकर जागरुकता फैलाने के लिए जानी जाती हैं। 8 साल की उम्र से ही ग्रेटा ने इसकी शुरुआत कर दी थी। हालाँकि ग्रेटा ने जंब अपने ट्वीट से इतना मामला बढ़ता देखा, तो उन्होंने अपना ट्वीट डिलीट कर दिया है। ग्रेटा थनबर्ग अमेरिका पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप पर भी अपना बयान दे चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here