यूपी में घटते कोरोना मामलो के बीच, CM योगी आदित्यनाथ ने जारी किये निर्देश, सभी जिलों के अस्पतालों में 4 जून से शुरू हो OPD सेवाएं

उत्तर प्रदेश में कोरोना के कम हो रहे मामलो के बीच यूपी की योगी सरकार ने राज्य के सभी जिलों के अस्पतालों को ओपीडी और सर्जरी सेवाएं चालू करने के निर्देश दे दिए है।

यूपी में घटते कोरोना मामलो के बीच, CM योगी आदित्यनाथ ने जारी किये निर्देश, सभी जिलों के अस्पतालों में 4 जून से शुरू हो OPD सेवाएं
यूपी में घटते कोरोना मामलो के बीच, CM योगी आदित्यनाथ ने जारी किये निर्देश, सभी जिलों के अस्पतालों में 4 जून से शुरू हो OPD सेवाएं

(श्रद्धा उपाध्याय): उत्तर प्रदेश में कोरोना के कम हो रहे मामलो के बीच यूपी की योगी सरकार ने राज्य के सभी जिलों के अस्पतालों को ओपीडी और सर्जरी सेवाएं चालू करने के निर्देश दे दिए है। जानकारी के मुताबिक ओपीडी सेवाएं कुछ जरूरी शर्तो और कोरोना गाइडलाइन्स को ध्यान में रखते हुए शुरू की जायेंगी। वही इन सभी जरूरी सेवाओं को 4 जून से शुरु करने के आदेश दिए गए है।

बता दें उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ देवेंद्र सिंह नेगी ने बताया कि 4 जून 2021 से यूपी के सभी जिलों के अस्पतालों में ओपीडी (OPD) के साथ सर्जरी के काम भी शुरू कर दिए जाएंगे। साथ ही उन्होंने ये भी बताया कि यदि किसी अस्पताल में कोरोना के मरीज होंगे तो उन्हें जिले में एक नोडल अस्पताल बनाकर वहां शिफ्ट कर दिया जाएगा। बाकी पूरे अस्पताल को सैनेटाइज करवाकर ओपीडी शुरू करने के लिए कहा गया है। यानि अब कोरोना के चलते बंद पड़ी ओपीडी और सर्जरी विभाग को खोल दिया जायेगा। जिससे कोरोना के अलावा भी अन्य रोग के मरीज अपना अब इलाज करा सकेंगे। साथ ही प्रसव केन्द्रो पर भी कार्य चालू कर दिया जायेगा। वहीं सभी सामुदायिक केन्द्रों पर ऑपरेशन सम्बन्धी सभी सेवाएं शुरू करने के भी निर्देश हैं। माना जा रहा ओपीडी सेवाएं शुरू होने से लाखो नॉन कोविड मरीजों को अपने इलाज में मदद मिलेगी। वही इस दौरान ओपीडी में अधिक भीड़ न लगाने के निर्देश दिए गए गए है।

वही दूसरी ओर सर्जरी को लेकर भी आदेश में बताया गया है कि जिन लोगों की सर्जरी पहले से शेड्यूल थी, उनकी सर्जरी के साथ नई सर्जरी को भी की जाए। जैसे गर्भवती महिलाओं की प्रेगनेंसी, आंखों से जुड़ी सर्जरी के साथ प्राथमिकता वाली सर्जरी का चयन किया जाए। साथ ही सभी पीएचसी, सीएचसी, जिला अस्पताल, मंडलीय अस्पतालों में फीवर क्लीनिक व फ्लू कॉर्नर बनाए जाएंगे। कोरोना के लक्षण युक्त रोगियों का यहीं पर परीक्षण कराया जाएगा ताकि वह अन्य रोगियों से अलग रहें। यहां पर लक्षण युक्त रोगियों का कोरोना टेस्ट एंटीजन के माध्यम से कराया जाएगा।

आपको बता दें यूपी में अबतक पांच करोड़ से अधिक कोविड टेस्ट किए जा चुके हैं। जिसके बाद उत्तर प्रदेश पहला इतने अधिक टेस्ट करने वाला राज्य बन गया है। वही राज्य में अब वर्तमान में संक्रमण के एक्टिव मामलों की संख्या घटकर 28,694 रह गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here